खुले में शौच जाने वाली महिलाओं की स्‍वच्‍छ भारत अभियान के नाम में फोटोग्राफी/वीडियोग्राफी करने से रोकने पर राजस्‍थान में भाकपा(माले) कार्यकर्ता कामरेड जफर हुसैन की नगर पालिका कमिश्‍नर के उकसावे पर पालिका कर्मियों द्वारा हत्‍या

नई दिल्‍ली, 16 जून 2017.

16 जून 2017 की सुबह राजस्‍थान में प्रतापगढ़ नगरपालिका कर्मियों द्वारा नगरपालिका कमिश्‍नर अशोक जैन के उकसावे पर भाकपा (माले) कार्यकर्ता श्री जफर हुसैन की पीट-पीट कर हत्‍या कर दी गई. कामरेड जफर हुसैन वार्ड नम्‍बर 2, कच्‍ची बस्‍ती के पास शौच जाने वाली महिलाओं के फोटो और वीडियो बनाने से इन पालिका कर्मियों को रोकने का प्रयास कर रहे थे. इस तरह की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी महिलाओं यौन उत्‍पीड़न एवं एक आपराधिक कृत्‍य है. इस बर्बर हत्‍याकांड ने एक बार फिर इस तथ्‍य को सामने ला दिया है कि कैसे स्‍वच्‍छ भारत अभियान को भी उन्‍मादी भीड़ हत्‍याओं और महिलाओं के सम्‍मान व अधिकारों पर हमले के लिए बहाना बनाया जा रहा है.

Press Release issued by by comrade Zafar Hussein before he was lynched

कुछ दिन पहले ही कामरेड जफर ने खुले में शौच जाने वाली महिलाओं को सार्वजनिक रूप से अपमानित करने और उनके साथ जबर्दस्‍ती करने के अभियान के खिलाफ नगरपालिका को एक ज्ञापन दिया था. उस ज्ञापन के माध्‍यम से उन्‍होंने स्‍वच्‍छ भारत अभियान के तहत सार्वजनिक शौचालयों का निर्माण कराने और बंद पड़े शौचालय की मरम्‍मत करा चालू कराने की मांग की थी. उन्‍होंने उक्‍त ज्ञापन जिलाधिकारी को भी देने की असफल कोशिश की, लेकिन जिलाधिकारी से उसे लेने से ही मना कर दिया. (इस बारे में हत्‍या से पहले उनके द्वारा जारी प्रेस बयान इस की प्रति इस विज्ञप्ति के साथ संलग्‍न है्).

हमारी मांग है कि कामरेड जफर की हत्‍या में नगर पालिका कमिश्‍नर और एफआईआर में दिये गये अन्‍य सभी नामजद अभियुक्‍तों को तत्‍काल गिरफ्तार किया जाय और उन्‍हें जल्‍द से जल्‍द सजा दी जाय. हमारी यह भी मांग है कि केन्‍द्र व राज्‍य सरकारों द्वारा स्‍वच्‍छ भारत अभियान की आड़ में आधिकारिक रूप से चलाये जा रहे सार्वजनिक रूप में अपमानित/शर्मसार करने के अभियान को गैरकानूनी घोषित करें, उन्‍मादी भीड़ हत्‍याओं व प्रताड़ना की शर्मनाक रणनीति को बंद करें और इन चालों का इस्‍तेमाल करने वाले अधिकारियों को दण्डित करें.

गरीबों व असहाय लोगों जिनके पास निजी अथवा सार्वजनिक शौचालयों की सुविधा तक उपलब्‍ध नहीं है, को अपमानित व प्रताडि़त करने से खुले में शौच जाने से रोकने का अभियान नहीं चल सकता. शौचालय अभियान की वर्तमान रणनीति केवल भ्रष्‍टाचार बढ़ाने, झूठे आंकड़े पेश करने, और गरीब-वंचित नागरिकों को सार्वजनिक रूप से अपमानित करने का काम कर रही है. सरकारें ऐसे बर्बर तौर-तरीके अपनाना तत्‍काल बंद करें और शौचालयों का प्रयोग करने के लिए एक सकारात्‍मक अभियान शुरू करें, जिसमें नये शौचालयों का निर्माण, उनमें स्‍वच्‍छ व समुचित पानी व सफाई की गारंटी हो.

बेहद दमनकारी और अमानवीय हालातों में काम करने के लिए मजबूर सफाई कर्मचारी अपने सम्‍मान और अधिकारों के लिए पूरे देश में आज संघर्षरत हैं. ऐसे में यह अति दुर्भाग्‍यपूर्ण है कि जो राजस्‍थान सरकार उन्‍हें उनके कानूनी अधिकारों से वंचित कर रही है, वही स्‍वच्‍छ भारत अभियान के नाम में उन्‍हें जनता को अपमानित करने और भीड़ हत्‍या के लिए इस्‍तेमाल कर ले रही है.

भीड़ हत्‍याओं के खिलाफ, महिलाओं के अधिकार व सम्‍मान के लिए, और सफाई कर्मियों के अधिकारों के लिए संघर्ष कर रहे सभी लोगों से हमारी अपील है कि वे कामरेड जफर के लिए न्‍याय के संघर्ष में एकजुट हों.

हम कामरेड जफर के संघर्षमय जीवन और बलिदान को सलाम करते हैं. वे ऑल इण्डिया कन्‍स्‍ट्रक्‍शन वर्कर्स फेडरेशन के राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी सदस्‍य और भाकपा(माले) के प्रतापगढ़ जिला कमेटी के सदस्‍य थे. कामरेड जफर ने स्‍वच्‍छ भारत अभियान के नाम में की जा रही प्रताड़ना के खिलाफ महिलाओं के सम्‍मान की रक्षा करते हुए अपना जीवन बलिदान कर दिया.

– प्रभात कुमार
द्वारा भाकपा(माले) केन्‍द्रीय कमेटी की ओर से जारी