18_Dec_2016लालकुआं, बिन्दुखत्ता, 18 दिसम्बर 2016

भाकपा(माले) के पूर्व महासचिव कॉमरेड विनोद मिश्र की 18 वीं पुण्यतिथि पर भाकपा(माले) की जिला कमेटी ने संकल्प दिवस मनाया। कॉमरेड विनोद मिश्र को याद करते हुए दो मिनट का मौन रखकर पुष्प अर्पित किये।

कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए पार्टी के राज्य सचिव राजेन्द्र प्रथोली ने कहा कि विपरीत राजनीतिक परिस्थितियों में भी पार्टी को आगे बढ़ाने की सीख कॉमरेड विनोद मिश्र ने दी है। आज फिर से मोदी सरकार द्वारा तैयार कॉरेपोरेट फासीवाद का मुकाबला वामपंथ को करना है।

राजेन्द्र प्रथोली ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार ने कालेधन को निकालने के नाम पर देश में आर्थिक आपातकाल लगा रखा है। मोदी सरकार काला धन को आधी कीमत पर सफेद करने की सरकारी एजेंसी बन गयी है। अच्छे दिन लाने के नाम पर जो नोटबंदी की गयी उससे देश के बड़े पूंजीपति लाभान्वित हो रहे हैं। आम जनता की बैंक में जमा की गयी मेहनत की कमाई को अम्बानी-अडानी-विजय माल्या का कर्ज माफ करने में मोदी सरकार ने लगा दिया है। मेहनतकश जनता , आम आदमी नोटबंदी से परेशान हैं। लाखों मजदूरों का रोजगार नोटबंदी से छिन गया है, किसान बीज, खाद, पानी न मिलने से परेशान है, छोटे उद्योग व व्यापार बंद होने की कगार पर हैं। लेकिन मोदी सरकार इसे अच्छे दिन बोल रही है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने नोटबंदी कर जिस कालेधन और जाली नोट को खत्म करने की बात की थी उसका परिणाम उल्टा ही आ रहा है। कालेधन के नाम पर बहुत ही छोटी राशि आयी है। जबकि पूरी अर्थव्यवस्था की कमर तोड़कर कई गुना नुकसान मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले ने कर दिया है और 90 से अधिक लोग जान से हाथ धो चुके हैं। मोदी जी ने बैंक व एटीएम की लाइनों में लगी आम जनता को ही काले धन वाला बता रहे है जबकि खुद उनकी पार्टी के नेताओं के पास नये व पुराने नोट लाखों-करोड़ों की संख्या में पकड़े जा रहे हैं। उन्होंने मोदी सरकार के नोटबंदी के खिलाफ चल रहे अभियान को 30 दिसम्बर को जुलूस प्रदर्शन के माध्यम से समापन करने की बात कही।

कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए भाकपा(माले) प्रत्याशी पुरूषोत्तम शर्मा ने कहा कि भाकपा(माले) ने विपरीत परिस्थितियों में भी संघर्ष करते हुए अपनी पहचान बनाई है। भाकपा(माले) ने जनता को गोलबंद कर सड़कों पर उतारकर सरकारों को विकास कार्य करने पर मजबूर किया है। उन्होंने कहा कि नगरपालिका हटाने की लड़ाई 2 साल तक भाकपा(माले) ने लड़कर जीती है। लेकिन लड़ाई जमीन का मालिकाना हक मिलने तक जारी रहेगी। उन्होंने बिन्दुखत्ता में बढ़ते अपराधों पर चिंता व्यक्त करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं से अपराधों के खिलाफ एकजुट होने का आवहान किया।

संकल्प सभा में आनन्द नेगी, भुवन जोशी, आनन्द सिजवाली, स्वरूप सिंह दानू, बसंती बिष्ट, विमला रौथाण, मुबारक शाह, राजेन्द्र शाह, पान सिंह कोरंगा, बिशनदत्त जोशी, नैन सिंह कोरंगा, कमलापति जोशी, दीवान सिंह जलाल, कमल जोशी, पुष्कर दुबड़िया, गोविंद , सौरभ, प्रवीन सिंह दानू, निर्मला शाही, हरीश गोस्वामी, मोहन थापा, खीम सिंह वर्मा, हुकुम सिंह, ज्ञानचंद, राधा देवी, सुरमा देवी, सुधा देवी,  गोपाल सिंह बोरा,पान सिंह  समेत कई लोग थे। संचालन ललित मटियाली ने किया।