Category Archives: Delhi

March to PM House Against Anti-Poor Demonetisation, 26th November

Join
March to PM House Against Anti-Poor Demonetisation
26th November, from Mandi House at 1pm

 

Friends,
On 8th November at 8pm the Prime Minister Narendra Modi suddenly declared that the Rs. 500 and Rs. 1000 notes, valid till then, will not be in use anymore. We were told by the PM and subsequently by several media houses that this was done to curb black money and fake currency. And this is what the country is being made to go through since then-

 

Around 100 deaths
Daily wage labourers, small traders and poor families are missing daily income.
Purchasing power of the poor has further decreased. Buying daily food items has become difficult.
Hospitals are denying treatment, medical shops denying necessary medicine to them because of lack of available cash in hand.
People in remote and rural areas are facing unimaginable difficulty because of the extremely skewed distribution of banks and ATMs.

 

And at the same time

Loan of wilful corporate defaulters amounting to more than 70 thousand crores of rupees has been waived off. Adani, Ambani and Vijay Mallya include the list of those who don’t need to pay back people’s money kept in banks anymore.
Those who have kept unaccounted money in off-shore tax haven remain untouched. Before elections, we were told Black Money will be Brought Back. And now we are being told those who are standing in long queues are the real black money holders.
Prime Minister himself appeared in the advertisement of a private company Paytm urging people to go cashless in a country where more than half of the adult population do not have bank accounts.
The demonetisation move is nothing but an attack on the poor while the rich and the privileged continue to enjoy!
Banks are being bailed out through the money of the poor while black economy and black money kept in safe havens remain untouched!

 

This move needs to be fought back.

Students, workers and activists are campaigning in different localities of Delhi against the anti-poor demonetisation for the last several days.

Please join workers, women, and students in a march to the PM’s house – assemble at Mandi House at 1 pm on 26 November – to protest this draconian demonetisation move.

 

Our Demands –

Roll Back Demonetisation!
Punish the corporate defaulters of bank loans!
Bring out the list of names who have accounts in off-shore tax havens! Bring Back the Money!
Immediately Guarantee-
1. Free distribution of food items to every poor family
2. Free treatment in all Government and private hospitals
3. Free disbursal of medicines to poor families.

 

Regards,
Kavita Krishnan, National Secretary, AIPWA, 9560756628
Ravi Rai, Delhi State Secretary, CPI-ML, 9599328755.
Sucheta De, National President, AISA, 9868383692.
Abhishek Kumar, AICCTU, Delhi, 9654881745.

Comrade Swapan Mukherjee Is No More

Comrade Swapan Mukherjee -17 Nov. 1953 - 6 Sept.2016New Delhi, 6 September 2016.

The CPI(ML) Central Committee is deeply shocked and grieved to announce the untimely demise of CPI(ML) Politburo member Comrade Swapan Mukherjee. He suffered an unexpected heart attack and passed away suddenly around 4.15 am this morning at a comrade’s home in Chandigarh, where he had gone for a meeting.

Comrade Swapan was born on 17 November 1953. His father was a central government employee. As a B.Sc. student in Kirorimal College, Delhi University in the early 1970s, he was among the many young people inspired by the Naxalbari struggle to join the ML movement. Even as an undergraduate college student, he became a committed revolutionary, working among workers in the Azadpur area and Delhi Transport Corporation as well as among teachers and students.

Even in the midst of the all-pervasive confusion and demoralization in the wake of the setback suffered by the first phase of the CPI(ML) movement, Comrade Swapan stood resolutely for the Party and for the revolutionary orientation and legacy of Comrade Charu Mazumdar.

Before the reorganized CPI(ML) Central Committee with Comrade Jauhar as General Secretary was constituted on 28 July 1974, Comrade Swapan along with some other comrades (led by Com. Ishwarchand Tyagi) had already established contact with the party’s Bihar comrades who were working under the leadership of Comrade Jauhar. He was very actively involved in party work in Delhi from the time of reorganization to the 2nd Party Congress held in early 1976.

For a brief period from mid-1976 to 1978, around the time of the Emergency and its immediate aftermath, Comrade Swapan had to leave Delhi to evade the police witch-hunt. After the Emergency, Comrade Swapan joined the Times of India in Delhi as a member of the clerical staff and worked actively to help build the nascent Party organization in Delhi.

Comrade Swapan was very active in the civil liberties movement (mainly led by PUCL and PUDR) that took shape in the wake of the Emergency, maintaining close contact with Justice VM Tarkunde, Gobind Mukhoty and others. He was very active in the ‘Release Nagbhushan Patnaik’ and ‘Release Nelson Mandela’ campaigns. He was also very active on behalf of the CPI(ML) Liberation in the many struggles and campaigns on national and international issues in Delhi in the 1970s and 1980s – including the initiatives against the anti-Sikh pogrom of 1984, and protests in support of anti-colonial and anti-imperialist resistance in Vietnam and Africa. He helped organize the Seminar Against Autocracy in Delhi in early 1982, and was a key organizer and living link in the process of formation of the Indian People’s Front (IPF) on 26 April 1982.

All this while, Comrade Swapan was employed with the Times of India, while working as a member of underground Delhi State unit of the Party. In 1987, he left his job at the TOI to become a fulltime organizer once again, becoming the Delhi in-charge of the IPF and taking up the task of organizing amongst Delhi’s working class. He took up the challenging task of organizing a trade union centre under CPI(ML) and became its founding General Secretary in May 1989 at the first conference of the AICCTU held in Chennai.

Com. Swapan became a member of Central Committee of the CPI(ML) in 1993. The same year, he became the in-charge of the Party organization in Punjab – where he continued to play a role for the next three decades. Comrade Swapan again became General Secretary of AICCTU in 1998, and continued to discharge this responsibility till May 2015 at the 9th Conference of the AICCTU at Patna, after which he became a Vice President of AICCTU only to take up more direct responsibilities of the Party. At the time of his shocking demise, on behalf of the Politburo he was in charge of Delhi, Punjab, Chandigarh, Maharashtra and Odisha.

In recent years Comrade Swapan played an important part in the formation of the All India People’s Forum (AIPF). He was a brilliant party organizer, always accessible and open to discussions, debates and fresh ideas, with reserves of patience and perseverance in guiding comrades and party units to understand and implement the party’s line. He will especially be missed by many young men and women working in the party in Delhi, Mumbai, Punjab and Chandigarh, who benefited enormously from his mentoring and comradeship. As an organizer, he embodied the principle of meticulous planning and was committed to executing all plans while leading from the front. A patient and modest learner and listener, he shared mutual admiration and respect with many activists from a range of other ideological streams, people’s movements, intellectual and cultural pursuits, and Left and democratic parties.

Comrade Swapan’s loss is an irreparable one – not only for the CPI(ML) but for the entire spectrum of democratic movements. He died as he had lived – active, optimistic, enthusiastic and tireless to the very last.

The CPI(ML) extends condolences to Comrade Swapan’s wife Comrade Sharmila, his son Soubhik and daughter Upasana, and all other members of his family.

Red Salute to Comrade Swapan Mukherjee!

कामरेड स्वपन मुखर्जी नहीं रहे

 कॉमरेड स्वपन मुखर्जी - 17 नवम्बर 1953 - 6 सितम्बर 2016

कॉमरेड स्वपन मुखर्जी
17 नवम्बर 1953 – 6 सितम्बर 2016

नई दिल्ली, 06 सितम्बर, 2016

पार्टी पोलिट ब्यूरो सदस्य कॉमरेड स्वपन मुखर्जी की असामयिक मृत्यु की खबर देते हुए भाकपा (माले) केन्द्रीय कमेटी दुःख और गहरा सदमा महसूस कर रही है. वे एक बैठक के सिलसिले में चंडीगढ़ गए थे और वहीं एक साथी के घर पर रुके थे. सुबह के सवा चार बजे अचानक दिल का दौरा पड़ने के कारण उनकी मृत्यु हुई.

उनकी पैदाइश 17 नवंबर, 1953 को हुई. उनके पिता सरकारी कर्मचारी थे. 70 के दशक के शुरुआती दौर में दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ीमल कॉलेज से बी.एससी. करने के दौरान ही वे उस दौर के बहुत सारे युवाओं की तरह नक्सलबाड़ी आन्दोलन से प्रेरित हुए और माले आन्दोलन में शामिल हुए. बी.एससी. के दिनों से ही वे प्रतिबद्ध क्रांतिकारी थे, उसी समय उन्होंने आजादपुर इलाके के मजदूरों, दिल्ली ट्रांसपोर्ट कोर्पोरेशन के कर्मचारियों, शिक्षकों और छात्रों में काम-काज संगठित करना शुरू कर दिया था.

भाकपा (माले) आन्दोलन के पहले चरण के बाद के चौतरफा भ्रमों और हताशा के दौर में भी कामरेड स्वपन दृढ़ता से पार्टी की क्रांतिकारी दिशा और चारु मजूमदार की विरासत की जमीन पर मजबूती से डटे रहे.

28 जुलाई 1974 को गठित भाकपा (माले) केन्द्रीय कमेटी, जिसमें कामरेड जौहर महासचिव थे, के पहले ही कामरेड ईश्वरचंद त्यागी की अगुवाई में कुछ और साथियों के साथ कामरेड स्वपन ने बिहार के साथियों से संपर्क कर लिया था, जो तब तक कामरेड जौहर के नेतृत्त्व में काम कर रहे थे. 1976 की शुरुआत में हुई दूसरी पार्टी कांग्रेस के दौर से ही कामरेड स्वपन की दिल्ली के पार्टी काम-काज में सक्रिय भागीदारी रही.

सन 1976 के बीच से लेकर 1978 तक आपातकाल और उसके बाद के हालात में पुलिस से बचने के लिए उन्होंने कुछ दिन के लिए दिल्ली छोड़ दी. आपातकाल के बाद उन्होंने टाइम्स ऑफ़ इंडिया के क्लर्क के रूप में कुछ दिनों काम दिया. इस बीच वे लगातार दिल्ली में पार्टी संगठन बनाने के काम में सक्रिय रहे.

कामरेड स्वपन मुख्य रूप से आपातकाल की पृष्ठभूमि में पैदा हुए PUCL और PUDR के नेतृत्त्व वाले मानवाधिकार आन्दोलनों में बहुत सक्रिय रहे. वे जस्टिस वी एम तारकुंडे और गोविन्द मुखोटे जैसे लोगों के संपर्क में थे. वे नागभूषण पटनायक और नेल्सन मंडेला की रिहाई के लिए चले आन्दोलनों में बेहद सक्रिय थे. 84 के सिख विरोधी जनसंहार के खिलाफ और वियतनाम व अफ्रीका के उपनिवेशवाद विरोधी साम्राज्यवाद विरोधी आन्दोलनों समेत कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय अभियानों के पक्ष में भाकपा (माले) की ओर से वे लगातार सक्रिय रहे. सन 82 के शुरुआत में उनकी सक्रिय भूमिका के चलते दिल्ली में तानाशाही के खिलाफ एक सेमिनार आयोजित हुआ. इसी प्रक्रिया को आगे बढ़ाते हुए 26 अप्रैल 1982 को आई पी एफ का जन्म हुआ जिसके वे सक्रिय जीवंत संगठकों में से एक थे.

इस पूरे दौर में टाइम्स ऑफ़ इंडिया के कर्मचारी के बतौर काम करते हुए कामरेड स्वपन भूमिगत दिल्ली राज्य इकाई के सदस्य रहे. 87 में उन्होंने नौकरी छोड़ दी और फिर पूर्णकालिक कार्यकर्ता बन गए, दिल्ली आईपीएफ के प्रभारी बने और दिल्ली के मजदूर वर्ग को संगठित करने का जिम्मा लिया. उन्होंने भाकपा (माले) के मजदूर संगठन को संगठित करने की चुनौती स्वीकार की और 1989 में चेन्नई में हुए पहले सम्मलेन में एआईसीसीटीयू के संस्थापक महासचिव चुने गए.

93 में वे भाकपा (माले) की केन्द्रीय कमेटी में चुने गए. इसी साल वे पंजाब में पार्टी संगठन के प्रभारी बने और अगले तीन दशकों तक महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी निभाते रहे. 98 में वे एक बार फिर एआईसीसीटीयू के महासचिव बने और मई 2015 में पटना में हुए एआईसीसीटीयू के सम्मलेन तक वे इस जिम्मेदारी को निभाते रहे. इसके बाद पार्टी की ज्यादा सीधी जिम्मेदारियां स्वीकार करने के लिए वे एआईसीसीटीयू के उपाध्यक्ष बने. आख़िरी वक्त तक वे पोलिट ब्यूरो की ओर से दिल्ली, पंजाब, चंडीगढ़, महाराष्ट्र और ओड़िशा के प्रभारी थे.

हल के वर्षों में कामरेड स्वपन ने एआईपीएफ के गठन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई. वे सक्षम पार्टी संगठक थे. वे हमेशा सर्वसुलभ, बहसों और नए विचारों का स्वागत करने वाले थे, अपार धैर्य के साथ पार्टी इकाईयों को पार्टी लाइन समझाने और और उसे लागू करने के लिए साथियों को प्रेरित करते थे. उनकी सर्वाधिक कमी दिल्ली, मुम्बई, पंजाब और चंडीगढ़ के उन नौजवान साथियों को खलेगी, जिनका वे नेतृत्त्व करते थे, जिनके लिए वे प्रेरणा का श्रोत थे. एक संगठक के बतौर वे सघन योजना निर्माण के सिद्धांत पर अमल करते थे और नेतृत्व की पहली कतार में रहते हुए योजनाओं को पूरी तरह लागू करने की मिसाल थे.

धैर्यशाली और विनम्र श्रोता, हमेशा सीखने को तैयार कामरेड स्वपन विभिन्न विचारधाराओं के कार्यकर्ताओं, जनांदोलनों, सांस्कृतिक रुझानों और वाम-जनवादी पार्टियों में बेहद सम्मानित थे.

कॉमरेड स्वपन का जाना हमारी पार्टी के लिए ही नहीं, लोकतांत्रिक आन्दोलनों की पूरी धारा के लिए अपूरणीय क्षति है. आख़िरी सांस तक उन्होंने सक्रिय, आशा-उत्साह से लबरेज, अथक जिन्दगी जी.

भाकपा (माले) कामरेड स्वपन की जीवन-साथी कामरेड शर्मिला, पुत्र शोभिक, पुत्री उपासना और अन्य परिवारजनों के प्रति गहन संवेदना व्यक्त करती है.

कॉमरेड स्वपन मुखर्जी को लाल सलाम!


 

–       भाकपा (माले) केन्द्रीय कमेटी

आम बजट 2016-17: सरकार का एक और विश्वासघात

नई दिल्ली, 29 फरवरी 2016.

आज अरुण जेटली द्वारा पेश किया गया बजट आम जनता की जरूरतों और भारतीय अर्थव्यवस्था की चुनौतियों को हल करने से बहुत दूर है। बढ़ती आर्थिक कठिनाइयों के लिए सारा दोष ‘एक कठिन वैश्विक माहौल, विपरीत मौसम और राजनीतिक वातावरण’ पर डाल दिया गया है।

इस बजट में खाद्य सुरक्षा कानून का जिक्र ही नहीं है जो कि अभी तक पूरी तरह से लागू ही नहीं हो सका है। जन वितरण प्रणाली के बारे में केवल इतना भर ही कहा गया है कि 3 लाख उचित मूल्य दुकानों का आॅटोमेशन किया जायेगा। सिंचाई पर जोर देने की बात इसमें है, परन्तु किसानों के पास पंूजी का अभाव और फसल का उपयुक्त मूल्य न मिल पाने की समस्या का समाधान नहीं किया गया, जोकि गहराते कृषि संकट की प्रमुख वजह है जिसके चलते हर महीने हजारों किसान आत्महत्या की ओर बढ़ रहे हैं।

उच्च शिक्षा के लिए एक फण्डिंग एजेन्सी बना मात्र 1000 करोड़ की काम चलाऊ राशि आवंटित करने से उच्च शिक्षा में पहले से ही हाशिये पर पहंुच चुके मध्यम और गरीब पृष्ठभूमि से आने वाले छात्रों की समस्यायें और बढ़ेंगीं। स्वास्थ्य क्षेत्र मंे कोई पहल नहीं ली गई है, लगता है सरकार ने ठान लिया है कि गरीब मरीजों की जान को लगातार बढ़ रहे पीपीपी मोड वाली व्यवस्था के हवाले ही छोड़ देना है।

करीब 75 लाख परिवारों ने एलपीजी सब्सिडी स्वेच्छा से छोड़ी है, लेकिन अति धनिक वर्ग खुलेआम टैक्स कानूनों का उल्लंघन कर रहा है और बैंकों द्वारा दिया गया कर्ज पचा चुका है जिनके विरुद्ध कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। मध्यम वर्ग को तो कोई राहत नहीं दी गयी, उल्टे धनिक वर्गों को और ज्यादा टैक्स माफी व छूटें देकर खुश करने की कोशिश इस बजट में भी हुई है। इस वर्ष के बजट में भी टैक्सेशन नीति के मौजूदा प्रतिगामी चरित्र को वस्तुओं व सेवाओं पर सेस एवं सरचार्ज लगा कर और बढ़ाया गया है, जबकि काॅरपोरेट टैक्स दरें नहीं बढ़ाई गयी हैं, केवल 3 प्रतिशत सरचार्ज सालाना एक करोड़ से ज्यादा की व्याक्तिगत आय वालों पर लगाया गया है।

सड़क निर्माण क्षेत्र में 2014 में 28,679 करोड़ व 2015-16 में 69,422 करोड़ दिये गये थे, जो अब एकदम से 1,03,386 करोड़ कर दिया गया है- यह ऊंची छलांग और कुछ नहीं इस क्षेत्र के अधूरे प्रोजेक्टों को सरकार पूरा करेगी, जिनमें पीपीपी के जरिए निजी काॅरपोरेट काफी मलाई खा कर किनारे हो चुके हैं!

भारतीय बैंकिग क्षेत्र बिना चुकाये गये विशाल काॅरपोरेट कर्जेां के बोझ से दबा हुआ है, केवल 25000 करोड़ का पंूजी निवेश ऐसे में बैंकों को कोई खास राहत नहीं दे पायेगा। आईडीबीआई में सरकार की हिस्सेदारी 80 प्रतिशत से घटा कर 51 प्रतिशत से कम करने का निर्णय बैंकिंग सेक्टर के इस संकट का फायदा उठाकर उनके निजीकरण की ओर ले जाने वाला एक कदम है।

भाकपा(माले) सभी से अपील करती है कि खाद्य सुरक्षा कानून के तत्काल व सम्पूर्ण रूप में लागू कराने, मनरेगा का और विस्तार करने, किसानों के लिए और तरह-तरह के प्रोजेक्टों व छोटे उद्यमों आदि में अपनी आजीविका कर रहे लोगों के लिए ज्यादा मात्रा में सस्ते कर्ज की व्यवस्था, और स्वास्थ्य एवं शिक्षा में ज्यादा व उपयुक्त राशि के आवंटन की मांगांे के साथ सरकार पर दबाव बनायें।

दीपंकर भट्टाचार्य)

महासचिव

भाकपा(माले)

बिहार चुनाव परिणामों पर भाकपा (माले) का वक्‍तव्‍य

नई दिल्‍ली, 8 नवम्‍बर 2015

भाकपा (माले) नरेन्‍द्र मोदी और भाजपा की विभाजनकारी राजनीति और विनाशकारी नीतियों के खिलाफ जबर्दस्‍त जनादेश देने के लिए बिहार के नागरिकों को तहेदिल से धन्‍यवाद देती है. बिहार ने इस जनादेश के जरिये पूरे देश की भावनाओं को अभिव्‍यक्‍त किया है और यह जनादेश देशभर में लोकतंत्र के बचाव में चल रहे किसानों, मजदूरों, छात्रों, लेखकों, वैज्ञानिकों और बुद्धिजीवियों के आंदोलनों को प्रेरणा देगा. जाहिर है कि महागठबंधन इस जनादेश का प्राथमिक वाहक बना है साथ ही लोगों ने भाकपा (माले) और अन्‍य वामपंथी पार्टियों के प्रति भी उनके महत्‍वपूर्ण संघर्ष के इलाकों में अपना विश्‍वास व्‍यक्‍त किया है.

बिहार विधान सभा में भाकपा (माले) को तीन सीटों के साथ फिर से वापस पहुंचाने के लिए हम बिहार की जनता को धन्‍यवाद देते हैं. भाकपा (माले) बलरामपुर विधानसभा सीट 22000 वोटों से, दरौली लगभग 10000 वोटों से और तरारी 400 वोटों के अंतर से जीती है. इसके अलावा वामपंथी प्रत्‍याशियों ने कई जगहों पर दूसरा और तीसरा स्‍थान हासिल किया है. वाम मोर्चे का ऐसा बेहतर प्रदर्शन वाम एकता को मजबूत करने वाला और जनोन्‍मुखी विकास, जनाधिकारों, न्‍याय और धर्मनिरपेक्षता के लिए चलने वाले तीखे संघर्षों को आगे बढ़ायेगा.

– दीपांकर भट्टाचार्य

महासचिव, भाकपा (माले)

Communist Party of India (Marxist-Leninist) Liberation

U-90 Shakarpur
Delhi – 110092
Phone: 91-11-22521067
Web: http:\\www.cpiml.org

कन्‍नड़ विद्वान प्रो. कलबुर्गी हत्‍या संघी दहशतगर्दी को सरकारी संरक्षण का नतीजा

नई दिल्ली, 31 अगस्त।
भाकपा(माले) प्रख्‍यात कन्‍नड़ विद्वान व हम्‍पी विश्‍वविदृयालय के पूर्व उपकुलपति एम.एम. कलबुर्गी की हत्‍या की कड़ी भर्त्‍सना करती है. प्रो. कलबुर्गी की कल धारवाड. में उनके घर में हत्‍या कर दी गई थी.
सतहत्‍तर वर्षीय प्रो. कलबुर्गी अपने तर्कवादी विचारों और दिवंगत यू.आर. अनंतमूर्ति का समर्थन करने के कारण बजरंग दल जैसे संघी संगठनों के निशाने पर थे. नरेन्‍द्र दाभोलकर और गोविन्‍द पान्‍सरे के बाद कलबुर्गी तीसरे तर्कवादी, अंधविश्‍वास विरोधी कार्यकर्ता हैं जिनकी हत्‍या हिन्‍दुत्‍ववादी संगठनों की धमकियों के बाद हुई है.
यहां तक कि एक स्‍थानीय बजरंग दल के नेता ने तो प्रो कलबुर्गी की हत्‍या पर खुशी जाहिर करते हुए एक और तर्कवादी कार्यकर्ता केएस भगवान की हत्‍या की भी धमकी दी है.
हिन्‍दुत्‍ववादी उपद्रवियों के खिलाफ आतंक के कई मामलों में मुकदमों को कमजोर कर रही मोदी सरकार के आने के बाद संघी दहशतगर्दों के हौसले लगातार बढ़ रहे हैं. महाराष्‍ट्र की भाजपा सरकार दाभोलकर हत्‍या की जांच के लिए सीबीआई को जरुरी स्‍टाफ तक उपलब्‍ध नहीं करवा रही है. मोदी सरकार और उसकी जांच एजेन्सियां तीस्‍ता सीतलवाद जैसे साम्‍प्रदायिकता विरोधी कार्यकर्ताओं का उत्‍पीड़न कर रही हैं. सोशल मीडिया पर भी साम्‍प्रदायिकता विरोधी और प्रगतिशील विचारों वाले कार्यकर्ताओं को संघी कैडरों की धमकियां लगातार मिलती रहती हैं.
भाकपा(माले) की मांग है कि प्रो. कलबुर्गी की हत्‍या की बिना देर किये जांच कराई जाय और हत्‍यारों को दण्डित किया जाय, और साथ ही संघी दहशतगर्द संगठनों की फंडिग और उनकी ट्रेनिंग आदि की जांच विस्‍तार से कराने के लिए कदम उठाये जायं तथा तमाम संघी आतंकी मुकदमों को एन.आई.ए. द्वारा कमजोर करने की साजिशों को रोकने के लिए न्‍यायपालिका की तत्‍काल पहल हो.