बिन्दुखत्ता 9 मार्च, भाकपा माले के राज्य कमेटी सदस्य व बिन्दुखत्ता के अग्रणी किसान नेता काॅमरेड मान सिंह पाल का आज शाम 4 बजे दिल्ली के एम्स अस्पताल में देहांत हो गया।

माले नेता पुरूषोत्तम शर्मा ने जानकारी देते हुए कहा कि एक साल पूर्व उनकी किडनी खराब होने पर उनकी पत्नी ने उन्हें एक किडनी दान में दी थी। किडनी में इंफेक्शन की वजह से पिछले 2 महीने से उनकी तबियत लगातार खराब थी। एक सप्ताह पूर्व उन्हें हल्द्वानी से दिल्ली के एम्स में रैफर करवा दिया गया था। परंतु इंफेक्शन ज्यादा फैल जाने से उनकी मृत्यु आज शाम 4 बजे दिल्ली के एम्स अस्पताल में हो गई।

उन्होंने कहा कि मान सिंह पाल 1970 से ही बिन्दुखत्ता के भूमि संघर्ष में रहे। बिन्दुखत्ता की जनता के हितों की कई लड़ाई जैसे- राशन कार्ड, स्कूल, बिजली, अस्पताल, सड़क, राजस्व गांव पाने की लड़ाईयों में वे अग्रणी रहे। लोगों की व्यक्तिगत समस्याओं में भी वे उनके साथ रहे। जनांदोलनों में कई बार उन्हें जेल तक जाना पड़ा। बिन्दुखत्ता के लोगों के बच्चों को गुणवतापूर्ण शिक्षा मिले इसके लिए उन्होंने प्रतिभाा बाल विद्यालय की स्थापना की जिसे वे बिना फायदे के चलाते थे। बिन्दुखत्ता में बैंक की स्थापना हो इसके लिए उन्होंने भवन बहुत कम किराये पर बैंक को दिया। वे अखिल भारतीय किसान महासभा के स्थापना सम्मेलन, पटना में भागीदार रहे।

पुरूषोत्तम शर्मा ने कहा कि बीमार होने के बावजूद वे नगरपालिका के खिलाफ चल रहे आंदोलन में भूमिका निभाते रहे और मरते मरते ‘देहरादून कूच‘ कार्यक्रम की फिक्र करते रहे और सफल बनाने के लिए कहते रहे।

पुरूषोत्तम शर्मा ने जानकारी देते हुए कहा कि आज रात उनका शव दिल्ली से पहुंच जायेगा और कल सुबह जनता के दर्शनार्थ प्रतिभा बाल विद्यालय कार रोड में रखा जायेगा। कल सुबह 11 बजे उनका अंतिम संस्कार गोला नदी के किनारे किया जायेगा। कल प्रतिभा बाल विद्यालय भी बंद रखा जायेगा।

भाकपा माले कार्यालय में शोक सभा हुई। शोक सभा में पुरूषोत्तम शर्मा, कैलाश पाण्डेय, बहादुर सिंह जंगी, भुवन जोशी, पुष्कर दुबडि़या, विशनदत्त जोशी, गोविन्द जीना, राजेन्द्र शाह, शंकरदत्त जोशी, नारायण नाथ, कमलापति जोशी, आनन्द सिजवाली, स्वरूप सिंह दानू, हरीश भंडारी, चिन्तामणि जोशी, आनन्द दानू, प्रवीन दानू, केदारीराम, ललित मटियाली, कमल जोशी आदि लोग मौजूद थे।